Jannat Ka Chand Arsh Ka Tara Hussain Hain

Jannat Ka Chand Arsh Ka Tara Hussain Hain
Dube Na Jo Falaq Ka Wah Tara Hussain Hain
जन्नत का चांद अर्श का तारा हुसैन है
डूबे ना जो फलक का वह तारा हुसैन है
Sar De Ke Jisane Azmate Aaqa Bacha Liya
Wah Fatima Ka Raaz Dulara Hussain Hain

सर दे के जिसने अजमत ए काबा बचा लिया
वह फातमा का राज दुलारा हुसैन है
Bachapan Men Khelate Rahe Nana Ki Zulf Se
Itana Mere Rasool Ko Pyara Hussain Hain 

बचपन में खेलते रहे नाना की जुल्फ से
इतना मेरे रसूल को प्यारा हुसैन है


VOICE BY Nazim Raza Mazhari ↡↡↡

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *