Ramadan Naat Lyrics – Zikre Ahmad Jo Karta Hai Ramzan Me

जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
Ramadan-Naat-Lyrics-Zikre-Ahmad-Jo-Karta-Hai-Ramzan-Me.jpg
जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
उसका इमा निखरता है रमजान में 
सहरी व इफ्तार की बरकतों से मका
नूर सा जगमगाता है रमजान में

जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
सब गुलामानै अहमद ना है ना क्यों
अबरे रहमत बरसता है रमजान में
जो भी रोजा रखता है खुदा के लिए
उसका चेहरा चमकता है रमजान में

जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
उसका इमा निखरता है रमजान में 
वक्ते इफ्तार कहने लगा हर कोई
कितना अच्छा यह लम्हा है रमजान में
अजमतों का महीना है यह नूर का
धारा हर सम्त बहता है यह रमजान में
जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में

मकता 
बिलयकी है वह हकदार ए खोलदे बरी 
ए निजामी जो मरता है रमजान में
जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
उसका इमा निखरता है रमजान में 

More Naat Click
Islamic Photo Click

Leave a Comment