New Naat Lyrics | Indian Naat Lyrics | Mere Aaqa Ki Gulami

Mere aaqa ki gulami jise mil jaati hai

Mere aaqa ki gulami jise mil jaati hai
baad shahat bhi use dekh ke sharmati hai
ho gaya chand udhar aur udhar hi suraj
mere sarkar ki ungali jidhar ho jaati hai
Tut jana hai use tut ke gir jana hai
karbala walo se talwaar jo takarati hai

Mere aaqa ki gulami jise mil jaati hai
baad shahat bhi use dekh ke sharmati hai

sulhekuli pe wahabi pe kayamat tute 
azhari ki mere tasweer jidhar jaati hai
Makta Ke Sher
Kash dahlize risalat pe mujhe maut aaye
ye gazali dile ashiq se sada aati hai

Mere aaqa ki gulami jise mil jaati hai

मेरे आक़ा की गुलामी जिसे मिल जाती हैं 

मेरे आक़ा की गुलामी जिसे मिल जाती हैं 
बाद शाहत भी उसे देख के शरमाती हैं 
हो गया चाँद उधर और उधर ही सूरज 
मेरे सरकार की उँगली जिधर हो जाती हैं 
टूट जाना हैं उसे टूट के गिर जाना हैं 
कर्बला वालो से तलवार जो टकराती हैं 

मेरे आक़ा की गुलामी जिसे मिल जाती हैं
बाद शाहत भी उसे देख के शरमाती हैं

सुलहकुली पे वहाबी पे क़यामत टूटे 
अज़हरी की मेरे तस्वीर जिधर जाती हैं 
मकता के  शेर 
काश दहलीज़े रिसालत पे मुझे मौत आए 
ये ग़ज़ाली दिले आश्कि से सदा आती हैं 

मेरे आक़ा की गुलामी जिसे मिल जाती हैं 


VOICE BY Gulam Gaus Gazali ↡↡↡

Leave a Comment