Ilam Ka Dariya Baha Kar Chal Diye Akhtar Raza 

Ilam Ka Dariya Baha Kar Chal Diye Akhtar Raza 
Jaame Ulfat Ka Pila Kar Chal Diye Akhtar Raza
Phool Ulfat Ka Khila Kar Chal Diye Akhtar Raza
Ahale Sunnat Ko Rola Kar Chal Diye Akhtar Raza
Ilam Ka Dariya Baha Kar Chal Diye Akhtar Raza
Dosti Hargeej Na Karana Dusme Sarkaar Se
Ham Sabho Ko Ye Bata Kar Chal Diye Akhtar Raza
Kabar Ki Duniya Men Aaqa Ki Zeyaarat Ke Liye
Maut Se Rista Bana Kar Chal Diye Akhtar Raza

Ilam Ka Dariya Baha Kar Chal Diye Akhtar Raza Jaame Ulfat Ka Pila Kar Chal Diye Akhtar Raza

Maslak E Ahmad Raza Ka Aur Bareli Shahar Ka
Dahar Men Rutba Badha Kar Chal Diye Akhtar Raza
Shere Aakhir
Chahne Walo Ko Apne Dage Furkat De Gaye
Har Kisi Kaa Dil Hilaa Kar Chal Diye Akhtar Raza
Aur Makta
Kyo Ho Bechain Amzad Ranchavi Ye Dil Mera 
Mujhko Deewana Bana Kar Chal Diye Akhtar Raza 
Maut Se Rista Bana Kar Chal Diye Akhtar Raza

इल्म का दरियाँ बहा कर चल दीए अख़्तर रज़ा 

इल्म का दरियाँ बहा कर चल दीए अख़्तर रज़ा 
जामे उल्फत का पिला कर चल दीए अख़्तर रज़ा
फूल उल्फत का खिला कर चल दीए अख़्तर रज़ा
अहले सुन्नत को रोला कर चाल दीए अख़्तर रज़ा

इल्म का दरियाँ बहा कर चल दीए अख़्तर रज़ा 
दोस्ती हरगिज ना कराना दुस्मे सरकार से
हम सबो को ये बता कर चाल दीए अख़्तर रज़ा
कबर की दुनियाँ में आका की जियारत के लिए 
मौत से रिस्ता बना कर चल दीए अख़्तर रज़ा
इल्म का दरियाँ बहा कर चल दीए अख़्तर रज़ा 
जामे उल्फत का पिला कर चल दीए अख़्तर रज़ा
मसलक ए अहमद रज़ा का और बरेली शाहर का
दहर में रुतबा बढ़ा कर चल दीए अख़्तर रज़ा
शेरे आखीर
चहने वालो को अपने दागे फुरक़त दे गाए
हर किसी का दिल हिला कर चल दीए अख़्तर रज़ा
और मकता
क्यो हो बेचैन अमज़द रांचवी ये दिल मेरा
मुझको दीवाना बना कर चल दीए अख़्तर रज़ा
मौत से रिस्ता बना कर चल दीए अख़्तर रज़ा

VOICE BY Amzad Raza Ranchavi ↡↡↡

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *