Ramadan Naat Lyrics – Zikre Ahmad Jo Karta Hai Ramzan Me

जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
Ramadan-Naat-Lyrics-Zikre-Ahmad-Jo-Karta-Hai-Ramzan-Me.jpg
जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
उसका इमा निखरता है रमजान में 
सहरी व इफ्तार की बरकतों से मका
नूर सा जगमगाता है रमजान में

जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
सब गुलामानै अहमद ना है ना क्यों
अबरे रहमत बरसता है रमजान में
जो भी रोजा रखता है खुदा के लिए
उसका चेहरा चमकता है रमजान में

जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
उसका इमा निखरता है रमजान में 
वक्ते इफ्तार कहने लगा हर कोई
कितना अच्छा यह लम्हा है रमजान में
अजमतों का महीना है यह नूर का
धारा हर सम्त बहता है यह रमजान में
जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में

मकता 
बिलयकी है वह हकदार ए खोलदे बरी 
ए निजामी जो मरता है रमजान में
जिक्रे अहमद जो करता है रमजान में
उसका इमा निखरता है रमजान में 

More Naat Click
Islamic Photo Click

Ramadan Naat Lyrics – Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me

Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me


Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me
Milti hai harek nemat ramazan mubarak me

Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me

Ham pyas ki siddt me karte hai Shana rab ki
Di rab ne hai wo takat ramzan mubarak me

Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me

Shehari karu mai ghar par iftaar madine me
Rab asi likhe kismat Ramzan mubarak me

Jayega yakinan wo jannat ki baharo me
Duniya se ho gar rukhsat ramzan mubarak me

Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me

Ae maut hai aana to taiba me chali aana
jab samne ho chaukhat ramzan mubarak me

Sarkar do alam ka hai wasta tujhko rab
mujhko vi dikha jannat Ramzan mubarak me

Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me

Azad khuda se tu ro ro ke duwa kar le
kar dega ata jannat ramzan mubarak me

Khulte hai dare jannat ramzan mubarak me
Milti hai harek nemat ramazan mubarak me

More Best Naat Lyrics Click